विकल्प वर्ग व्यवस्था और आयोजन – Conducting Arrangement – Substitute Class

This Article to related SBA – Nios Deled Student. Dled has to do school based activities. Preparation of schedule and conducting arrangement / substitute class schedule and conducting substitute classes. Comes. solution of Conducting Arrangement – Substitute Class. how to write format for Preparation of schedule and conducting arrangement/substitute class schedule and conducting substitute classes. all information in hindi provided by Hindihelpguru. वर्ग व्यवस्था in SBA.

शिक्षण के क्षेत्र में डिप्लोमा ( Diploma in Elementary Education (D.El.Ed) ) कर रहे student – teachers के लिए ये आर्टिकल है. इसमे आपको deled SBA का solution बताया गया है. Maintenance of school/class records and registers में आपको 511.2.4 Preparation of schedule and conducting arrangement/substitute class schedule and conducting substitute classes. के बारे में लिखना होता है. विद्यालय में आप विकल्प वर्ग व्यवस्था और आयोजन कैसे करते है इसके बारे में लिखना होता है.

NIOS DELED ने इसके लिए format दिया है. इस format में आपको यहाँ दिया कंटेंट लिखना होता है. अगर आपने अभी तक इस format को download नहीं किया है तो यहाँ से कर सकते है.

अगर ऊपर दी गयी file आपने download कर ली है तो यहाँ दिया गया solution आपके लिए है.

इसके आलावा DELED SBA के अन्य solved file भी हमारे पास उपलब्ध है. यहाँ से पढ़ सकते है.

DELED SBA Solved File And Format ( Pdf solution file )

Conducting Arrangement – Substitute Class

अगर आपने DELED SBA का format download कर लिया है तो यहाँ दिया solution इसमे लिखना है. किस जगह क्या लिखना है ये आपको format file से पता लग जायेगा. ( अगर download नहीं किया है तो ऊपर लिंक दिया है )

विकल्प वर्ग व्यवस्था और आयोजन –

कई बार आपको वैकल्पिक शिक्षक का काम करना पड़ता है. इसके लिए आपके पास दो प्रकार की स्थिति होती है. १. मान लीजिये की आप किसी विषय के स्पेशल शिक्षक है. और आपको विद्यालय की परिस्थिति के चलते अपने विषय के साथ किसी और विषय का अध्यापन कार्य करना पड़े. २. दूसरी स्थिति में आप कक्षा १ और २ के छात्रों को पढ़ा रहे है. और कक्षा ३ और ४ के अध्यापक की अनुपस्थिति में आप को कक्षा ३ या ४ के छात्र को पढ़ना पड़े.

ऐसी स्थिति में आपको वैकल्पिक शिक्षण के तौर पर काम करना पड़ता है. या फिर वैकल्पिक गतिविधियां आधारित अध्यापन कार्य करना पड़ता है. अगर आपको कभी ऐसा शिक्षण कार्य करना पड़े तो आप किस तरह इसकी समय सारणी तैयार करेंगे।किस तरह विकल्प वर्गों का आयोजन और इसकी गतिविधियों का निर्माण करेंगे इसके बारे में यहाँ Deled कर रहे टीचर्स के लिए फॉर्मेट में दी इनफार्मेशन के आधार पर गतिविधिया बताई गयी है.

क्षेत्र ( गतिविधि की विशिष्टता )

हमने कक्षा 5 के बच्चो को कला के विषय में अध्यापन कार्य कराया. वैसे तो हम गणित विषय पढ़ते है पर आज हमारे पास विकल्प वर्गों का आयोजन करने का कहा गया था.
छोटी कक्षाओं में कला आधारित गतिविधिया बच्चो को बहुत पसंद है। कला के संसार में अलग ही कल्पना की अलग ही उड़ान होती है और इस संसार में प्रवेश कर पाना आसान नहीं है पर शरुआत यहाँ से ही होती है. । मैंने पाया है कि उन्हें इस गतिविधि में अमूमन अधिक मजा आता है। कला शिक्षण का उद्देश्य बौद्धिक, मानसिक, शारीरिक विकास, सृजनात्मकता व मौलिकता की अभिव्यक्ति और संस्कृति, लोक परंपराओं और कलात्मक धरोहरों के प्रति लगाव पैदा करना है.
इसी सोच के साथ मैंने छात्रों को वैकल्पिक विकल्प वर्गों का आयोजन में चित्रकला को पसंद किया और गतिविधिया का आयोजन किया.

गतिविधि की प्रक्रिया :

सबसे पहले आयोजन – समय सारणी तैयार की गयी. इसमे चित्र कला आधारित किस तरह की गतिविधिया करनी है इसकी रूपरेखा तैयार की.

  • चित्रकला के लिए जरुरी सामग्री का आयोजन
  • विषय के आधार पर जरुरी सुचनाये.
  • कक्षा बैठक व्यवस्था निर्माण
  • गतिविधिया
  • प्रदर्शन और मूल्याकन

कक्षा के सभी छात्र को जरुरी सामग्री के साथ गोल – round में बैठाया गया. और बताया की आपको कोई भी चित्र जो सबसे अधिक पसंद है इसका निर्माण करना है और इसमे रंग भरने है. इस तरह बच्चो को जो वे करना चाहते हैं उसके चुनाव की छूट दी गयी. मेरी कोशिश थी की विभिन्न विषयों पर कुछ विचार उन तक पहुँचाने की रहती है जिन्हें वे अपनी स्केच-बुक में प्रयोग कर सकें।

सभी बच्चे अपनी गतिविधि में व्यस्त हो गए. एक दुसरे की क्रिया – चित्र को देखते थे. इसमे से कुछ सिखते थे, मदद करते थे. और चित्र कला की गतिविधिया का आनंद ले रहे थे.

जब चित्र निर्माण का कार्य पूरा हुआ तो सभी चित्रों को प्रदर्शित किये गए. इस छोटी सी प्रदर्शनी को देखने के लिए अन्य कक्षा के छात्रो को आमत्रित किये गए.

गतिविधि का परिणाम :

मैंने पाया है कि उन्हें इस गतिविधि में अमूमन अधिक मजा आता है।कुछ दिलचस्पी लेते हैं और कुछ नहीं। बहुत अच्छा प्रदर्शन न कर रहे हों या कर रहे हो सभी को प्रोत्साहित किया गया. उनके लिए सबसे अधिक आवश्यकता सोच पाने के अभ्यास की है। बच्चे के व्यक्तित्व और दक्षताओं के विकास में कला-शिक्षा का महत्व है।

कला से बच्चे की बुद्धि का विकास होता है। देखा गया है कि कला से सम्बद्ध गतिविधियों में शामिल बच्चे अन्य विषयों की भी बेहतर समझ विकसित कर पाते हैं फिर वह चाहे भाषा हो या भूगोल या फिर विज्ञान।  अध्ययनों से सिद्ध हुआ है कि कला के सम्पर्क और परिचय में आने से मस्तिष्क की गतिविधि को बढ़ावा मिलता है। बच्चा समस्याओं के हल निकालना सीखता है। वह अपने विचार अलग-अलग तरह से दूसरों तक पहुँचाना भी सीखता है। कला बच्चे के समग्र व्यक्तित्व का विकास करती है, उसमें आत्म-सम्मान का निर्माण होता है और अनुशासन भी आता है।

कला से सम्बद्ध होने की वजह से एक बच्चा अधिक रचनात्मक और नवाचारी बनता है तथा दूसरों के साथ सहयोग करना सीखता है। सारांश में, कला-गतिविधियाँ बच्चे के व्यक्तित्व-विकास, बौद्धिक प्रगति तथा अवलोकनात्मक दक्षताओं में बेहतरी लाने के लिए आवश्यक हैं।

ये भी पढ़े : 

Deled Study Materials Android App Download करे :  Click Here

NIOS DELED Assignment Answer 504 and 505 – Solved PDF

DELED Course School Based Activities ( SBA ) – Information

NIOS D.EL.ED Study Material Syllabus Book All Language

2 Comments

  1. Ashok March 26, 2018

Leave a Reply