हिंदी की राइटिंग सुधारने का तरीका – लिखावट कैसे सुधारें

June 30, 2019 Education, Exam Tips
Share it :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

क्या आप अपने राइटिंग में सुधार करना चाहते है ? क्या आप अपनी ख़राब लिखावट से परेशान है? क्या आपको लिखावट सुधारने का कोई तरीका नहीं मिल रहा है ? तो आप सही website पर आये है. यहाँ आपको हिंदी की राइटिंग सुधारने का तरीका step by step बताया जायेगा. school – colleges के student भी अपनी Handwriting – हिंदी की लिखावट कैसे सुधारे इसके बारे में चर्चा की जाएगी. साथ में आपको video के माध्यम से ऑनलाइन क्लास का भी लुफ्त ले पायेंगे.

exam यानि लिखना ! कोई भी परीक्षा हो इसका सिर्फ एक ही मतलब है आपको जो पूछा जाये इस प्रश्नों के जवाब लिखना. और जहाँ पढाई है वहां exam है, और जहाँ परीक्षा है वहां लिखना है. हो सकता है आज के Digital युग में computer या किसी और ऑनलाइन source से exam लिया जाये. लेकिन हमें तो अभी answer sheet में लिखाण ही है.

अच्छी लिखावट का महत्व

कुछ भी सिखने से पहले ये जरुर्री हो जाता है की हम ये क्यों सिख रहे है. अगर आपको इसका महत्व पता नहीं है तो आप ज्यादा कोशिश करने के बाद भी ज्यादा कुछ सिख नहीं पाएंगे. अगर आप student है तो पता होगा की class में टीचर कई student को बार बार अपने राइटिंग सुधारने के बारे में बता रहे होते है. टोकते रहते है. अगर आपकी लिखावट भी अच्छी नहीं है to आपने भी इस बात का अनुभव किया होगा.

अच्छी लिखावट के बारे में हमने पूरा एक लेख लिखा है आप इसे यहाँ से पढ़ा सकते है.

यहाँ से पढ़े : परीक्षा में लिखावट का महत्त्व

अगर आपने अच्छे राइटिंग का महत्त्व पढ़ लिया है तो आप भी सोचते होंगे की आपको भी लिखावट में सुधर करना है. आओ हम राइटिंग सुधारने के तरीको को समझते है.

राइटिंग सुधारने का तरीका

यहाँ आपको लिखावट सुधार के कई तरीको और उपायों के बारे में बाते है. आपको दी गयी images – फोटो को ध्यान से देखना है समजना है. और इसकी घर पर प्रेक्टिस भी करनी है.

हिंदी की लिखावट कैसे सुधारें

  • कॉपी में लिखने की सही जगह

आपकी कॉपी में खींची गयी लाइनों को ध्यान से देखिए. दो लाइनों के बीच 8 मिमी. की दूरी होती है. एक ही लाइन पर हिन्दी को कपड़े की तरह लटकाया जाता है और अंग्रेज़ी को मोमबत्ती की तरह खड़ा किया जाता है. अर्थात हिन्दी के शब्दों के ऊपर ‘शिरोरेखा’ खींची जाती है और अंग्रेज़ी के शब्द ‘अधोरेखा’ पर लिखे जाते हैं.

Not book Copy Me Likhne ki sahi jagah
  • शिरोरेखा – लाइन के साथ लिखना

हिन्दी के शब्दों के ऊपर शब्द के आरम्भ से एक मिमी पहले से शुरू कर के शब्द के अन्त के एक मिमी बाद तक एक ही शिरोरेखा खींची जाती है. बिना शिरोरेखा के लिखना या टूटी हुई शिरोरेखा बनाना सही नहीं है. शिरोरेखा भी सीधी लाइन में ही होनी चाहिए.

राइटिंग सुधारने का तरीका Line shirorekha ke sath likhne ka tarika

ये भी पढ़े : पढाई में एकाग्रता कैसे बढाए ?

  • शब्द और अक्षर ( word ) के बिच सही जगह

हिन्दी के अक्षर चार मिमी. लम्बाई के बनाने चाहिए. अर्थात दो लाइनों के ठीक बीचोबीच तक ही अक्षरों की लम्बाई होनी चाहिए. नीचे का आधा हिस्सा मात्राएँ देने के लिये प्रयोग किया जाता है.
५- सभी दो अक्षरों के बीच दो मिमी. और दो शब्दों के बीच छः मिमी. की समान दूरी रखनी चाहिए. एकरूपता सौन्दर्य का महत्वपूर्ण अंग है.

राइटिंग सुधारने का तरीका
  • अक्षरों की सही लिखावट को समजे

सबसे पहले तो आप वर्णमाला के अक्षरों को देखे. कैसे इसमे कोण बनाए गए है और कैसे घुमावदार अक्षरों को घुमाव दिया गया है. आपको वर्णमाल से सभी वर्ण को ध्यान से देखन है. परखना है और इसकी ही प्रेक्टिस करनी है.

हिंदी वर्णमाला handwriting images
  1. -सभी सीधे अक्षरों को 90 अंश और घुमावदार अक्षरों को 45 अंश के कोणों पर बनाना चाहिए.
  2. – सभी टेढ़ी मात्राओं को 45 अंश के कोण पर बनाना चाहिए.
  3. – अंग्रेज़ी के बड़े अक्षर छः मिमी और छोटे अक्षर तीन मिमी की ऊँचाई के लिखने चाहिए.
  • जरुरी जगह के साथ पेरेग्राफ बनाये
  1. -लिखते समय पूरे पन्ने पर बायीं ओर एक इंच और दाहिनी ओर आधा इंच जगह खाली रखनी चाहिए. इसी तरह ऊपर की ओर एक इंच और नीचे की ओर भी आधा इंच जगह छोड़ देनी चाहिए.
  2. – प्रत्येक नया पैराग्राफ शुरू करते समय बायीं ओर से तीन लाइनों के बीच की दूरी के बराबर अर्थात 16 मिमी जगह छोड़ कर लिखना शुरू करना चाहिए.
पेरेग्राफ के साथ हिंदी में लिखावट
  • लगातार प्रेक्टिस करे.

कई बार ऐसा होता है की कुछ दिन लिखावट सुधारने की प्रेक्टिस करने से सुधर जाते है. लेकिन कई student के साथ ऐसा भी होता है की 1 – 2 वर्ष तक प्रेक्टिस करने के बाद कोई सुधर नहीं होता है. लेकिन आपको अपने प्रयासों को छोड़ना नहीं चाहिए. आप खुद क्या गलती करते है. इसे कैसे सुधर किया जा सकता है. इसके बारे में सोचे और फिर प्रयास करे. ( हो सकता है आपका प्रयास सही दिशा में ना हो , आपने अजमाए उपाय – तरीके सही न हो.)

इस तरीके से अभ्यास करते समय शुरू में आपकी लिखने की रफ़्तार निश्चय ही धीमी होगी. मगर इससे बिलकुल घबराइए मत. धीरे-धीरे कर के सुन्दर लिखने का अभ्यास करने के साथ ही अपनी रफ़्तार भी बढ़ाते जाइए. आप देखेंगे कि आपकी लिखावट भी सुन्दर हो गयी और आपके लिखने की रफ़्तार भी बढ़ती जा रही है.

Exam Useful : परीक्षा की तैयारी कैसे करे ?

  • आपकी परेशानी हमें बताये.

राइटिंग में सुधर करना आसान है और मुश्किल भी. लेकिन नामुमकिन नहीं है. यहाँ दिया राइटिंग सुधारने का तरीका अपनाना होगा. अगर छात्र की लिखावट में सुधर नहीं हो रहा है तो देखना पड़ता है की इसे और क्या परेशानी हो रही है. इसकी मुश्किल के related सही मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है.

अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो हमारे साथ बने र. आपकी प्रॉब्लम हमें बताये. हम आपकी परेशानी को देखेंगे. इसका सही solution आपको बताएँगे. और आपकी हिंदी की राइटिंग सुधारने में आपकी मदद करेंगे.

इस लेख ” राइटिंग सुधारने का तरीका ” को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. ताकि हम इसको भी ” लिखावट कैसे सुधारें ” के बारे में मार्गदर्शन दे पाए.

Facebook से जुड़े

धन्यवाद.

Leave a Reply