परीक्षा में अधिक अंक कैसे प्राप्त करे – 10 Exam Tips

January 27, 2019 Education, Exam Tips
Share it :

सबसे पहले तो  विद्यार्थी मित्रों को मेरा नमस्कार. आप यहां तक आए इसका मतलब है कि आप 10 वीं या 12वीं कक्षा की बोर्ड एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं.   आप सही जगह आए हैं, क्योंकि मैं यहां आपको यह बताने वाला हूं कि किसी भी एग्जाम में ज्यादा से ज्यादा अंक कैसे अर्जित करें. आपने अनुभव किया होगा कि कई बार आप से कमजोर  छात्र ज्यादा अंक लेते हैं और आप पीछे रह जाते हैं. क्या आपने सोचा है ऐसा क्यों होता है? क्यों हम पीछे रह जाते हैं? हम क्या गलती करते हैं? हम क्या गलत लिख देते हैं?  मैं आज इस आर्टिकल में एक स्कूल का शिक्षक होने के नाते मैंने जो अनुभव किया है की परीक्षा में लिखने में परीक्षार्थी क्या गलती करते हैं , आपके सामने 10 Exam Tips बताने जा रहा हूं.

10 exam tips Exam me jyada ank kaise paye

परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के उपाय – 10 Exam Tips

यहां HindihelpGuru 10 Exam Tips से आपको पता चलेगा कि किसी भी विषय में ज्यादा मार्क्स लाने के लिए कौन सा तरीका अपनाया जाए?  हम कैसे लिखें ? जिससे ज्यादा से ज्यादा अंक अर्जित कर सके? कौन से विषय में कैसे लिखना चाहिए? पेपर में लिखने की शुरुआत कैसे करें? कहां से करें? कौन से सवालों के जवाब पहले लिखे? सवालों के जवाब बाद में लिखें? प्रश्न का सही उत्तर किस तरह लिखना चाहिए? ऐसे सभी सवालों के जवाब आप को इस आर्टिकल से मिल जाएंगे और आपका सारा कंफ्यूजन दूर हो जाएगा. आप बोर्ड एग्जाम में ज्यादा से ज्यादा अंक अर्जित कर सकेंगे.  इस 10 Exam Tips आर्टिकल को पूरा का पूरा पढ़ना है और इसको Follow भी करना है.

1. प्रश्न पत्र को पूरा पढ़ना

मैं आपको सलाह दूंगा कि परीक्षा खंड में जब आपके पास विषय का प्रश्न पत्र आएगा तब आपको इसे पूरा का पूरा पढ़ लेना है.  कोई भी चीज को छोड़े नहीं. जब आप प्रश्न पत्र को पढ़ लेंगे तब आपको मालूम हो जाएगा कि पूछे गए सवालों में से कितने सवाल के जवाब आप अच्छे से लिख सकते हैं और कितने ऐसे भी सवाल होंगे जो आपकी समझ के बाहर के होंगे.  कई बार ऐसा होता है कि प्रश्न पत्र पढ़ने से हम डर जाते हैं , “अरे यार यह तो बहुत कठिन है? कैसे लिख पाएंगे?” देखो, घबराने की जरूरत नहीं है. कुछ भी असंभव नहीं है. कुछ भी कठिन नहीं है. प्रश्न पत्र को पढ़ने से आपकी जो मेमोरी है वह revised होती है आपके दिमाग में आपने जो पूरे साल  स्कूल में पढ़ा है वह आपकी नजर के सामने आ जाएगा. कुछ बातें आपको पता नहीं थी वह भी आज याद आ जाएगी. अब आपको पूरे विश्वास के साथ लिखने की शुरुआत करनी है. कहां से शुरू करेंगे?

2. Answersheet मैं लिखने की शुरुआत कहां से करें?

एक बार आपने प्रश्न पत्र को पढ़ लिया है तब आपको जिस प्रश्नों के जवाब सटीक तरीके से लिख सकने की उम्मीद है इसी प्रश्नों से इसकी शुरुआत करें.   जहां तक बात बोर्ड एग्जाम की है तो कई बार छात्रों को यह पता नहीं होता है कि हम इस प्रश्न के उत्तर को किसी भी क्रम में लिख सकते हैं. अगर आप शुरुआत सीधे तीसरे प्रश्न के उत्तर से करेंगे तो कोई प्रॉब्लम नहीं है.  इसलिए मेरा मानना है कि आप सबसे सटीक जवाब से उत्तर पत्रिका में सबसे पहले लिखें. क्योंकि इससे यह होगा कि आपका आत्मविश्वास डगमग जाएगा नहीं. और अब जैसे आगे लिखते रहेंगे आत्मविश्वास बढ़ता ही जाएगा. कुछ ऐसे भी प्रश्नों के जवाब आप लिख पाएंगे जो शुरू में आपको पता नहीं था.

इसका और एक बड़ा फायदा है, जब आपके एग्जाम के आंसर शीट का मूल्यांकन  किया जाता है तब परीक्षक के दिमाग में आपके लिए , आपके उत्तर के लिए एक प्रभावी छाप बन जाती है. और एग्जाम पेपर में ज्यादा अंक अर्जित करने में आपको इससे  मदद मिल सकती है. आपने सुना होगा कि “ First impression is your last impression”

“ प्रश्नों के ऐसे उत्तर पढ़ कर परीक्षक प्रभावित होता है कि विद्यार्थी को विषय का सही ज्ञान है. यह आकलन परीक्षक को प्रभावित करता है. फिर सटीक सारगर्भित उत्तर पढ़ने में कम समय लगता है और ऐसे उत्तरों पर शीघ्रता से पूरे नंबर दिए जाते हैं जबकि प्रश्नों के विस्तार से लिखे उत्तर पढ़ने में समय अधिक लगता है व उत्तर का विस्तार उत्तर की संबद्धता पर भी प्रश्नचिह्न लगा देता है.” – HinsiHelpGuru – 10 Exam Tips

3. प्रश्न का सटीक उत्तर लिखें

जरूरत से ज्यादा लिखना  और जरूरत से कम लिखना बड़ी गलती है.  प्रश्नों के उत्तर जरूरत के अनुसार ही लिखने चाहिए. ऐसा नहीं है कि ज्यादा लिखने से ज्यादा मिल जाएंगे. ऐसा भी नहीं है कि कम लिखने से ज्यादा मिल जाएंगे. प्रश्न में दर्शाया गया होगा कि आपको इस प्रश्नों के उत्तर कितने वाक्यांश में या फिर कितने शब्दों में लिखने हैं. अगर यह नहीं लिखा है तो उसके  मार्कस भी लिखे होंगे. आपको अंदाजा मिल जाएगा कि इस प्रश्न का उत्तर हमें कितनी लाइन में लिखना है, शब्दों में लिखना है , वाक्य में लिखना है. याद रखें प्रश्न में जो बात आप से पूछी गई है इसका सटीक उत्तर अंक को ध्यान में रखकर देना है. एक उदाहरण के तौर पर यह एक सवाल देखें.

प्रश्न:  ताजमहल किसने बनवाया?  ( 1 अंक )

उत्तर: ताजमहल मुगल सम्राट शाहजहां ने बनवाया.

यह हुआ प्रश्न का सारगर्भित उत्तर.  यहां यह  लिखने की जरूरत नहीं थी  की शाहजहां कौन था ? ताजमहल क्यों बनवाया था? कब बनवाया था?

यह भी याद रखें:  अगर ऊपर दिया गया प्रश्न दो या दो से अधिक अंक का है तो इसका ज्यादा शब्दों में अथवा वाक्यों में उत्तर लिखने की जरूरत रहेगी.  क्योंकि आपको यह समझना होगा कि इसके अंक कितने निर्धारित किए गए हैं.

कई बार विद्यार्थी के मन में यह धारणा बनी हुई होती है कि सवाल का किसी भी तरह से उत्तर लिख देने से आपको अंक मिल जायेंगे, तो आपकी यह धारणा गलत है. कुछ भी लिख देने से अंक कैसे मिलेंगे?  इसलिए अगर आपको किसी प्रश्न का सही उत्तर पता नहीं है तो बीच में इसकी जगह छोड़ कर आगे बढ़े हो सकता है बाद में आपको इसका जवाब याद आ जाए.

4. प्रश्नों का उत्तर लिखने का तरीका

यह 10 Exam Tips में आपको ऐसे प्रश्नों के उत्तर लिखने के तरीके बता रहा हूं कि जो बड़े लंबे होते है. ऐसे प्रश्नों के जवाब तकरीबन  10 वाक्य में होते हैं और इसके अंक 5 से 10 तक होते हैं. ऐसे प्रश्न द्वारा परीक्षा में छात्रों की याद शक्ति से ज्यादा विचार शक्ति का परीक्षण किया जाता है.  इसमें आपको अपनी सर्जनात्मक दिखानी होती है. जैसे कि निबंध लिखना. कहानी का लेखन करना, किसी विषय को विस्तार से स्पष्ट करना इत्यादि.

ऐसे प्रश्नों के जवाब में शुरुआत के तीन या चार वाक्य ऐसे होने चाहिए जो  परीक्षक पढ़ने के बाद आपका पूरे जवाब का आकलन हो जाए. मतलब, आप इस जवाब में क्या लिखना चाहते हैं इसका सारगर्भित निर्देशित हो जाए.  इसके बाद आपको उत्तर का क्रमशः विस्तार करना है. क्रमशः का मतलब है किसी भी उत्तर में उत्तर का विकास स्टेप बाय स्टेप होता है. ऐसा ना हो जाएगी जो लास्ट में वाक्य लिखना चाहिए था वह शुरू में आ जाए और शुरू में लिखना चाहिए था वह लास्ट में हो जाए. अगर 10 वाक्य में जवाब लिख रहे हैं तो  इस सेक्शन में आपको 5 से 6 वाक्य में उत्तर दे जाना है. अब बात करते हैं अंत्य वाक्य और शब्दों की. यह आपको जैसे शुरुआत में सटीक उत्तर वाक्य लिखे थे वैसे सारगर्भित वाक्य को लिखकर प्रश्न का जवाब पूरा करना है.

 5. स्पष्ट एवं सुंदर लिखावट

अगर विषय किस लैंग्वेज का है तो आपकी लिखावट को ज्यादा से ज्यादा ध्यान में रखा जाता है.  अगर आप सुंदर लिख सकते हैं दो इसमें कोई भी संशय नहीं है कि ज्यादा से ज्यादा अंक प्राप्त ना करें. मेरा अनुभव रहा है कि कई बार सुंदर लिखावट करने वाले छात्रों भी कमजोर छात्रों से ज्यादा अंक अर्जित कर लेते हैं. इसका मतलब यह है कि परीक्षक के दिमाग में यह बात जरूर रहती होगी कि जो सुंदर लिखावट कर सकते हैं ऐसे बच्चे पढ़ाई में अव्वल भी होते हैं.  हालांकि सभी मामलों में यह संभव नहीं है. फिर भी परीक्षक का अपना नजरिया होता है. लेकिन यह सच है कि सुंदर लिखावट आपको ज्यादा अंक जरूर दे सकती है. परीक्षार्थी को चाहिए कि वह अपनी लिखावट सुंदर बनाने का प्रयास करे. हैंड राइटिंग के बारे में हमने अलग से इसका पूरा आर्टिकल लिखा है आप यहां से बाद में जरूर पढ़ें. आपको सहायता मिलेगी.

पढ़े : Exam me Good handwriting ka mahatva

ध्यान दें:  अगर आपकी लिखावट बहुत अस्पष्ट है और आप इसे सुधार करना चाहते हैं तो हमें कमेंट में जरूर बताएं हम आपको कुछ टिप्स देंगे.

6. परीक्षा में समय प्रबंधन करना

एग्जाम के बाद आपके ऐसे कई छात्र मिलेंगे जो कहेंगे “  अरे यार इस विषय में मैं तो मैं बहुत कुछ लिख सकता था, फिर भी छूट गया क्योंकि टाइम की कमी हुई थी. “  यह कमजोरी आपको कमजोर विद्यार्थी बना देती है इसमें कोई शक नहीं है. क्योंकि परीक्षा का समय निर्धारित होता है. इसी समय के दौरान आपको अपने कौशल्य को प्रदर्शित करना होता है. भले ही आपको सब कुछ पता है सभी प्रश्नों के जवाब बताएं लेकिन आप लिख नहीं पाते हैं. तो आप कमजोर छात्र माने ही जाएंगे. इसलिए परीक्षा के 2:30 या 3 घंटों में कैसे मर्यादित समय में सभी प्रश्नों के उत्तर लिखे जा सकते हैं इसकी प्रैक्टिस करना अनिवार्य हो जाता है.

सभी सब्जेक्ट के प्रश्न पत्र का प्रारूप आपको पता होना चाहिए. कितने प्रश्न होते हैं. कितने एमसीक्यू टाइप के प्रश्न होते हैं. कितने शॉर्ट आंसर देने होते हैं. कितने लॉन्ग आंसर देने होते हैं .  कितना व्याकरण होता है. कितने प्रोजेक्ट होते हैं? यह सब आपको पता होना चाहिए. मैं सलाह दूंगा कि आपने अभी तक अपने विषय के प्रश्न पत्र का प्रारूप नहीं देखा है तो देख ले. क्योंकि यह प्रारूप ही आपको टाइम मैनेजमेंट करने में सहायता करेगा.

मर्यादित समय में कैसे प्रश्नों के सभी जवाब लिखे जाते हैं इसके लिए परीक्षा के पहले आपको ज्यादा से ज्यादा ओल्ड एक्जाम के प्रश्न पत्रों को सॉल्व करना पड़ेगा वह भी मर्यादित समय में.  मैं चाहूंगा कि आप परीक्षा से पहले इसी विषय के कम से कम 4 -5 ने प्रश्न पत्रों के जवाब लिखने की प्रेक्टिस करके परीक्षा देने जाए.

सबसे अधिक महत्वपूर्ण एक बात मैं बता रहा हूं कि जब आपका एग्जाम शुरू होने वाला हो, जब  परीक्षा का पहला दिन हो, कुछ समय के लिए कुछ लिखने की प्रैक्टिस करके जरूर जाए. क्योंकि बोर्ड एग्जाम के पहले दिन ही समय प्रबंधन  में प्रॉब्लम का ज्यादा सामना करना पड़ता है.

मेरे नजरिए से परीक्षा के समय टाइम मैनेजमेंट सबसे अधिक महत्वपूर्ण बन जाता है. क्योंकि अगर आप 10 अंक के प्रश्नों के जवाब नहीं दे पाते हैं तो इसका मतलब यह होता है कि आपको  सिर्फ 90 अंकों का प्रश्न पत्र दिया गया था. तो इसमें 90 के 90 आने की तो कोई गुंजाइश ही नहीं है. अगर आप पूरे 100 अंकों का प्रश्न पत्र के जवाब लिखेंगे तब आप 90 से ज्यादा अंक अर्जित करने के बारे में सोच सकते हैं.

7. कॉपी करने के इरादे और तरीकों से बचें

क्या परीक्षा में कॉपी करके लिखना चाहिए?  एक शिक्षक के नाते मैं तो यह कहूंगा कि कॉपी करना सबसे से बुरा आईडिया है.  ना इस से आपका भला होगा, ना ही ज्यादा अंक अर्जित कर पाएंगे. एग्जाम में कॉपी करना बुरी आदत है ही, साथ में आपके जीवन के लिए भी प्रतिरोधक है.

जब परीक्षा खंड में आप होते हैं और आपके दिमाग में कॉपी करने का विचार प्रवेश करता है तब से आपका मन भ्रमित होने लगता है. इसके प्रभाव से आप जिस प्रश्नों के सही उत्तर देने वाले थे इसे भी गवा देते हैं.  कॉपी करने के विचारों में सबसे ज्यादा समय का व्यय होता है. अगर कोई कॉपी करके लिखना चाहता है तो वह ऐसा विद्यार्थी होगा जो पूरे वर्ष स्कूल में नहीं गया है या फिर बाहरी छात्र के रूप में परीक्षा दे रहा है और उसका लक्ष केवल पास होना है.  ठीक है, वह पास हो सकता है, लेकिन आप की तरह आगे कभी नहीं बढ़ सकता. इसके लिए ऐसे छात्रों को परीक्षा में पास होने के तरीकों के बारे में सोचना और पढ़ना चाहिए जो हमने पहले से ही 1 आर्टिकल में बता दिया है वह यहां से पढ़ सकते हैं.

पढ़े : परीक्षा में पास होने के तरीके – उपाय

8. परीक्षा के अंत के 15 मिनट का समय प्रबंधन

इस समय में आपको क्या करना चाहिए यह बताने जा रहा हूं. यह समय आपको कुछ गलतियों से बचाने का काम करेगा.  सबसे पहला तो यह काम करे की अभी आप को कितना लिखना बाकी है. कितने प्रश्नों के जवाब देने बाकी है और इस 15 मिनट में आप इसे कैसे मैनेज करेंगे.  क्योंकि आप सभी प्रश्नों के जवाब देंगे तब 90 अंको से पास पहुंच सकते हैं.

इस समय में यह ध्यान रखना चाहिए कि अगर आपको किसी   प्रश्नों का सही और सटीक जवाब पता है तो इसे पहले लिखने का प्रयास करें ना की किसी और ऐसे प्रश्न के पीछे ज्यादा समय  बर्बाद करें, जिसका आपको सही जवाब पता नहीं है. जिस प्रश्नों के जवाब देने से ज्यादा से ज्यादा अंक अर्जित किए जा सकते हैं इसे लिखने की प्राथमिकता रखें.

 9. बचे समय का सदुपयोग करना

प्रश्न पत्र के सभी प्रश्नों के जवाब लिख जाने के बाद भी अगर आपके पास समय बचा है तो आप इसका सदुपयोग कर सकते हैं और इससे आपके 5 से 10 अंक तक बढ़ने की संभावना रहती है करना क्या है? वह मैं आपको बताता हूं.

  • सबसे पहले अपने सभी उत्तरों को पढ़ ले.  किसी उत्तर में कुछ बदलाव की गुंजाइश है,. आपके पास इसकी जगह बची है तो आप कुछ सुधार कर सकते हैं.
  •  आंसर शीट के उत्तर पढ़ने से अगर आप से शुरू में कुछ छूट गया है तो वह भी आपको मिल जाएगा और आप इसे पूरा कर पाएंगे.
  • ज्यादातर परीक्षाओं में ब्लू इंक पेन का इस्तेमाल किया जाता है. इसके साथ में आप ब्लैक कलर के पेन को इस्तेमाल कर सकते हैं. तो इस बचे समय में आप अपने उत्तर में से कुछ शब्दों को – कुछ वाक्य को हाइलाइट कर सकते हैं. जिसे आप परीक्षक के ध्यान में लाना चाहते हैं.  
  • ऐसे वाक्यों को भी हाईलाइट कर सकते हैं जो दिए गए प्रश्नों का सटीक और सारगर्भित जवाब देता हो.
  • ऐसे मुद्दों को भी है हाईलाइट कर सकते हैं जो प्रश्न के जवाब के लिए महत्वपूर्ण मुद्दे हो.
  • इस समय में आप अपनी आंसर शीट और सब आंसर सीट को सही तरीके से जोड़ने का काम भी करेंगे.

10. एग्जाम के बाद क्या करें?

जब आप किसी विषय का एग्जाम देकर  क्लास रूम से बाहर आते हैं तब आप सबसे पहले अपने प्रश्न पत्र को फिर से  देखते हैं की कुछ छूट गया है क्या? अब कोई जरूरत नहीं है फिर भी आप अपनी गलतियों के बारे में सोचें कि आज मैंने कौन सी गलती कर दी?  क्यों कर दी? दूसरे विषय में इस गलती से बचने के लिए क्या करना चाहिए? यह सब सोचना चाहिए. कितने अंक आएंगे इसके बारे में विचार करना आज के लिए छोड़ दें क्योंकि आपने जो लिखा है उसके मिलने वाले हैं इसमें कोई बदलाव नहीं कर सकता.  बिना व्यर्थ चिंता किए समय का व्यय किये गलती को ढूंढें, इससे फिर से ना हो इसका ध्यान रखें और दूसरे विषय की तैयारी में लग जाए.

परीक्षा की तैयारी कैसे करें?  परीक्षा से पहले टाइम मैनेजमेंट कैसे करें?  किस विषय के लिए परीक्षा की तैयारी कैसे करें यह सब जानकारियां हमने दूसरी आर्टिकल में बता दीजिए आप यहां से पढ़ सकते हैं.

पढ़े : बोर्ड परीक्षा की तैयारी कैसे करे ? study Tips

 परीक्षार्थी दोस्तों, HindiHelpGuru ने यहां बोर्ड एग्जाम के सभी विषयों में प्रश्न पत्रों के जवाब कैसे लिखनी चाहिए इस (10 Exam Tips ) की विस्तृत चर्चा की है. फिर भी आपके मन में कई सवाल हो सकते हैं. आप अपने सवाल हमें कमेंट बॉक्स में देंगे तो हम इसका सही जवाब देने का प्रयास करेंगे.  

अलग-अलग विषयों के लिए जवाब लिखने की टिप्स अलग अलग हो सकती है. हम नेक्स्ट टाइम में प्रयास करेंगे कि सभी सब्जेक्ट के लिए विस्तृत चर्चा करके आपको बताएंगे कि किस विषय में किस चीजों का ध्यान रखकर परीक्षा पेपर लिखना चाहिए. कुछ जानकारी हमने परीक्षा में कैसे लिखें लिखने के तरीकों के बारे में  दूसरे आर्टिकल में अगर आपके पास टाइम हो तो आप इसे भी
HindiHelpGuru.com से पढ़ सकते हैं :

आपको ये आर्टिकल 10 Exam Tips कैसा लगा जरुर बताये. अपने दोस्तोको भी Whatsapp – फेसबुक पर शेयर करे.

Leave a Reply