गुरु पूर्णिमा पर निबंध Guru Purnima Essay in Hindi Marathi English And Gujarati

July 12, 2019 Education, Festival Wishes Special
Share it :

Guru Purnima Essay 2019: गुरु पूर्णिमा पर निबंध हिंदी में : गुरु पूर्णिमा गुरु और शिष्य के बिच के सबंध और कृतज्ञता का दिन है. school – colleges और सभी शैक्षणिक संस्थानों में इस दिन को विविध कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. शाला पाठशाला में निबंध और भाषण का विशेष आयोजन होता है. बच्चो के लिए निबंध की तैयारी करने हेतु यहाँ आपको सभी भाषा में गुरु पूर्णिमा पर निबंध दिया गया है. यहाँ से आप Guru Purnima Essay in Hindi Marathi English And Gujarati में पढ़ पाएंगे और अपने वक्तव्य या निबंध लेखन की तैयारी कर पाएंगे. यहाँ new best Essay on Guru Purnima, guru purnima essay writing PDF, Guru Purnima Ka Nibandh Download, गुरु पूर्णिमा के लिए निबंध बच्चो के लिए, Guru Purnima Short Essay in school student. 10 Line Essay.

गुरु पूर्णिमा पर निबंध

यहाँ हमने कई प्रारूप से गुरु पूर्णिमा का निबंध तैयार करके दिया है. आपको अपनी जरूरियात के आधार पर किसी एक को पसंद करना है. और इसकी तैयारी करनी है. कुछ Long Essay भी है और कुछ short Nibandh भी है. यहाँ HindiHelpGuru.com website से जो आपको गुरु पूर्णिमा पर निबंध मिलेगा वो कहीं ओर से नहीं मिलेगा. यहाँ अध्यापक की टीम निबंध तैयार करती है.

वैसे तो हमने गुरु पूर्णिमा के लिए भाषण तैयार करके आपको दुसरे लेख में पहले ही दे दिया है. आप इस भाषण को भी ” गुरु पूर्णिमा पर निबंध ” के रूप में लिख सकते है. साथ में भाषण का video भी दिया गया है. निचे इसका लिंक दिया है.

गुरु पूर्णिमा पर निबंध Guru Purnima Essay hindi, english marathi gujarati images

भाषण Video : गुरु पूर्णिमा – गुरु महिमा – गुरु का महत्व

Guru Purnima Short Essay In Hindi – 10 Line

गुरु पूर्णिमा का त्यौहार आषाढ़ की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है. ये दिन गुरु और शिष्य के प्रेम और समर्पण का दिन है.

जीवन में हमें सच्ची राह दिखने वाला हर कोई हमारे लिए गुरु है. माता – पिता और शिक्षक भी हमारे जीवन के लिए मार्गदर्शन देने वाले प्रथम गुरु है. गुरु को परमात्मा का स्वरूप माना गया है. गुरु के लिए हम जितना करे वो कम है. आज के दिन गुरु से प्रेम करे, पूरा प्यार करे, पूरा समर्पण करे| 

गुरु पूर्णिमा के दिन पाठशाला – विद्यालयों में गुरु वन्दना, भाषण, निबंध लेखन के कार्यक्रम का आयोजन होता है. धार्मिक संस्थानों में भी गुरु के प्रति अबाहर और प्रेम व्यक्त करने के विविध कार्य किये जाते है.

गुरु पूर्णिमा पर निबंध हिंदी में

गुरु पूर्णिमा पर निबंध गोष्टी, गुरु पूर्णिमा का महत्व nibandh, गुरु पूर्णिमा 2019,

गुरु ब्रह्मा गुरुर्विष्णु: गुरुदेवो महेश्वर:।’

गुरु साक्षात् परब्रह्म् तस्मै श्री गुरुवे नम:।। 

गुरु पूर्णिमा गुरु और शिष्य के प्रेम और समर्पण का त्यौहार है | प्राचीन काल से ही भारत में गुरू पूर्णिमा का पर्व बड़ी श्रद्धा व धूमधाम से मनाई जाती है. इस दिन अपने अपने गुरुदेव के सानिध्य में आकर गुरु का सम्मान करना चाहिए | गुरु जिन्होंने अपने ज्ञान रुपी प्रकाश से हम्हारे जीवन में तिमीर को दूर किया , यह जीवन उनका ऋणी है |

आषाढ़ पूर्णिमा के दिन को गुरु पूर्णिमा, व्यास पूर्णिमा, मुड़िया पूनों आदि नामों से जाना जाता है।  हिंदी शास्त्रों के अनुसार गुरु पूर्णिमा का उत्सव महर्षि वेद व्यास जी याद में मनाया जाता है | इसी दिन महाभारत और चारो वेद के रचियता इस महान संत का जन्म हुआ था | इसी कारण इसे व्यास पूर्णिमा और आदि गुरु पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है | भक्तिकाल में कबीरदास के शिष्य घीसालाल का जन्म भी इसी दिन हुआ था | यह दिन आषाढ़ महीने की पूर्णिमा को आता है |

गुरु को शिष्य का संबंद भगवान् से भी बड़ा बताया गया है क्योकि गुरु के बिना ज्ञान, अनुशाषण और भक्ति नहीं मिलती और इनके आभाव से ईश्वर को प्राप्त नहीं किया जा सकता | 
गुरु शब्द का अर्थ ही है अन्धकार को दूर करने वाला | अन्धकार के दूर होने पर प्रकाश की प्राप्ति होती है | हिंदी शास्त्रों में गु का अर्थ अन्धकार और रु का अर्थ दूर करने वाले से है |

भारत भर में गुरु पूर्णिमा पर्व बड़ी श्रद्धा व धूमधाम से मनाया जाता है। हिन्दू , जैन और बौध धर्म में गुरु का अपना अपना महत्व है | हम्हारे सनातन धर्म ने गुरु और शिष्य के अतुलनीय रिश्ते की महिमा पुरे जगत में पनपाई है | गुरु को भेट में अपने अंगुटा काट के देने वाले एकलव्य को कौन भूल सकता है | बर्बरीक का शीश दान गुरु श्री कृष्णा को प्रदान करना भी कोई नहीं भूल सकता | 

वस्तुतः गुरु के प्रति नतमस्तक होकर कृतज्ञता प्रकट अर्थात व्यक्त करने का दिन है गुरुपूर्णिमा। इस दिन अपने गुरुजनों के चरणों में अपनी समस्त श्रद्धा अर्पित करे.

Guru Purnima essay in English

small speech on guru purnima in english best latest essay on guru purnima in hindi speech in 100 words english 2020, importance of guru purnima, essay For School Student.

On the holiest Festival of Guru Purnima, my heart beats to all the world’s Gurus. The importance of the Guru has given us all the saints, sages and great figures. The ‘G’ in Sanskrit means ‘darkness’ (ignorance) and ‘r’ means light (knowledge). The Guru leads us from ignorance to darkness, to light of knowledge.

Every year Ashad Shukla Purnima is celebrated in the whole of India during the festival of Guru Purnima. People of Hindu, Buddhist and Jain religions celebrate this festival by their methods in the honor of their master on this day by fasting, worship, etc.

The first guru of our life is our parents. Those who feed us, teach us the first time in the worldly world to speak, walk and begin. Therefore, the place of parents is important. For the development of life continues to be consistent, we need a guru. The future life is created only by the guru.

Gurus are respected on the occasion of Guru Purnima. On this occasion, a special arrangement of worship is organized in ashrams. Valerians who make their significant contribution in various fields on this festival are honored. Among the respected people, people from areas such as literature, music, dramatology, painting etc. are involved. In many places stories, kirtan and Bhandara are organized. On this day there is also a provision for charity to be done in the name of Guru.

Greeting towards Guru, revealing gratefulness is the day to express the meaning of Guru Purnima. Guru is Brahma, Guru is Vishnu and Guru is Lord Shiva. The Guru is the only Parabrahma. I salute such a guru.

Guru Purnima Essay in gujarati language

ગુરુ પૂર્ણિમા વિશે ગુજરાતી નિબંધ

ગુરુ પૂર્ણિમા પર્વ નું મહત્વ, ગુરુ વિશે શાયરી ગુરુ વિશે સુવિચાર, ગુરૂ પૂર્ણિમા વિશેષ Gujarati Nibandh

‘ગુરુ પૂર્ણિમા’ એક પ્રખ્યાત ભારતીય પર્વ છે. તેને હિન્દુ અને બૌદ્ધ ધર્મ ના લોકો પૂર્ણ આનંદ અને ઉલાસ સાથે સાથે ઉજવણી કરે છે. આ દિવસ હિન્દુ કૅલેન્ડર અનુસાર, અષાઢ મહિનાની પૂર્ણિમાને દિવસે ઉજવવામાં આવે છે. ગુરુ પૂર્ણિમા ગુરુની પ્રતિષ્ઠા અને સમર્પણનું પર્વ છે. આ પર્વ ગુરુના નમન અને સન્માનનું પર્વ છે. માન્યતા એ છે કે આ દિવસે ગુરુના પૂજન કરવાથી ગુરુની દીક્ષાનું પરિણામ તેમના શિષ્યોને મળે છે.

ગુરુ નું આપણા જીવનમાં ખૂબ જ મહત્વ છે. ‘ગુ’ નો અર્થ થાય છે અંધકાર (અજ્ઞાન) અને ‘રૂ’ એટલે અર્થ પ્રકાશ (જ્ઞાન). ગુરુ આપણે ને અજ્ઞાન રૂપિ અંધકારથી જ્ઞાન રૂપિ પ્રકાશ તરફ લઈ જાય છે. ભાવિ જીવનનું નિર્માણ ગુરુ દ્વારા થાય છે.

ગુરુ પૂર્ણિમાના પર્વ પર ગુરુઓનું સન્માન કરવામાં આવે છે. આ અવસર પર આશ્રમોમાં પૂજા-પાઠનું વિશેષ આયોજન થાય છે. આ પર્વ પર વિવિધ ક્ષેત્રોમાં તમારા મહત્વનું યોગદાન આપનારાઓ ને સન્માનિત કરવામાં આવે છે. પ્રખ્યાત લોકોમાં સાહિત્ય, સંગીત, નાટ્ય વિદ્યા, ચિત્રકામ વગેરે ક્ષેત્રોના લોકો સમાવેશ થાય છે. ઘણા સ્થળોએ કથા, ભાષણ, નિબંધ લેખન અને ભંડારાનું આયોજન થાય છે. આ દિવસે ગુરુ ના નામ પર દાન-પૂણ્ય કરવું પણ યોગ્ય અને શુભ કારક છે.

ગુરુ ગોવિંદ દોનો ખડે કાકો લાગુ પાય , 
બલિહારી ગુરુ આપકી ગોવિંદ દિયો બતાય…

સંત કબીર નો આ દોહો જ બતાવે છે કે ગુરુનું સ્થાન પરમાત્મા કરતા પણ વિશેષ છે.

આજના પવિત્ર દિવસે આપના ગુરુ નું સન્માન કરીએ. આપણા માટે કરેલ ઉપકારો કે યાદ કરી તેમના પ્રત્યે સન્માન અને સમર્પણ સાથે કોટી કોટી વંદન કરીએ.

Guru Purnima Essay in marathi Nibandh

गुरु पूर्णिमा निबंध मराठी

गुरु विषयी माहिती मराठी गुरुपौर्णिमा निबंध मराठी गुरु चे महत्व in marathi मराठी गुरुपौर्णिमा सूत्रसंचालन गुरु कोणाला म्हणावे

आषाढ शुद्ध पौर्णिमा म्हणजे गुरू पौर्णिमा किंवा व्यास पौर्णिमा
म्हणून साजरी केली जाते. महर्षि व्यासांनी महाभारत, पुराणे लिहिली. त्या व्यास मुनिंना वंदन करण्याचा, त्यांची पूजा करण्याचा हा मंगल दिन आहे. त्यांच्या एवढे श्रेष्ठ गुरुजी, आचार्य अद्याप झालेले नाहीत, अशी हिन्दू धर्मात श्रद्धा आहे.

अशा या आचार्यांना साक्षात देवाप्रमाणे मानावे असे शास्त्रात कथन केले आहे. एवढेच नव्हे तर महर्षि व्यास हे भारतीय संस्कृतीचे शिल्पकार आणि मूलाधार मानले जातात. ज्या ग्रंथात धर्मशास्त्र, व्यवहारशास्त्र, नीतिशास्त्र, मानसशास्त्र आहे, असा सर्वश्रेष्ठ ग्रंथ व्यासांनी लिहिला.

“गुरुर्ब्रम्हा गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वरः ll
गुरु साक्षात परब्रम्ह तस्मै श्री गुरवे नमः ll”

हा श्लोक आपण रोज प्रात:स्मरणात म्हणतो. ह्यात किती खोल अर्थ दडलेला आहे? गुरू हे प्रत्यक्ष ब्रह्मा, विष्णु आणि शिव आहेत. ते साक्षात परब्रह्मच आहेत. अशा श्रीगुरूंना मी नमन करतो. असा या श्लोकाचा अर्थ आहे. भक्ताला ज्ञानाची प्राप्ती होते, ती केवळ गुरुमुळेच. त्यामुळे कितीही मोठा माणूस असला तरी त्याला मिळणारे ज्ञान, आत्मज्ञान या सर्वांच्या प्राप्तीसाठी गुरुची आवश्यकता असतेच. म्हणतात ना, 

“गुरुविण कोण दाखवील वाट।
आयुष्याचा पथ हा दुर्गम, अवघड डोंगर घाट।।“

आयुष्यात अत्यंत यशस्वी व मोठ्या असणार्‍या प्रत्येक व्यक्ती त्यांच्या गुरुच्या मार्गदर्शनाखाली, त्यांनी दाखवलेल्या वाटेवरून, पुढे जात मोठ्या झाल्या. अगदी एकलव्याचेच उदाहरण घ्या. गुरुने त्याला नाकारले तरी त्याने आपल्या गुरुंचा पुतळा उभा करून धनुर्विद्येचा अभ्यास केला. या मागचा भावार्थ असा, आपले उद्दिष्ट साध्य करण्यासाठी अथक परिश्रम तर हवेच पण त्याला श्रद्धेची, विश्वासाची जोडही हवी.

हा विश्वास, श्रद्धा आपल्याला गुरुत दिसते. त्याच्याकडून आपल्याला प्रेरणा मिळते. ही प्रेरणा देणारी व्यक्ती आपला गुरुच आहे. गुरु दत्तात्रयांनी 24 गुरु केले असे म्हणतात. त्यांनी त्यांच्या प्रत्येक गुरुकडून चांगल्या गोष्टी उचलल्या आणि स्वत:ला सिद्धपद प्राप्तीसाठी तयार केले.

गुरु म्हणजे ज्ञानाचा सागर आहे. जलाशयात पाणी विपुल आहे, परंतु घटाने-घागरीने आपली मान खाली केल्याशिवाय म्हणजे विनम्र झाल्याशिवाय पाणी मिळू शकत नाही. त्याप्रमाणे गुरूजवळ शिष्याने नम्र झाल्याविना त्याला ज्ञान प्राप्त होणार नाही.

गुरुपौर्णिमा ही सद्गरूंची पौर्णिमा मानली जाते. पौर्णिमा म्हणजे प्रकाश. गुरु शिष्याला ज्ञान देतात. तो ज्ञानाचा प्रकाश आपल्यापर्यंत पोहोचावा, म्हणून गुरूची प्रार्थना करावयाची, तो हा दिवस.

गुरू म्हणजे ईश्वराचे सगुण रूप. वर्ष भर प्रत्येक गुरु आपल्या भक्तांना अध्यात्माचे बोधामृत भरभरून देत असतात. त्या गुरूंच्या प्रति अनन्य भावाने कृतज्ञता व्यक्त करणे, हा गुरुपौर्णिमा साजरा करण्या मागील उद्देश आहे. अंध:काराचा नाश करून ज्ञानाचा प्रकाश देणारा गुरू असतो. जो सकल जीवास चांगले शिकवितो. संस्कार देतो तो गुरू.

आई ही सर्वात पहिली गुरु असते. ती आपल्या मुलाला योग्य संस्कार देते व योग्य मनुष्य बनण्यास मदत करते. नंतर शाळेत शिक्षक. व मनुष्याकरिता आणखी एक महत्त्वाचा गुरू असतो तो म्हणजे निसर्ग. आपण सर्वांना आपल्या या सर्व गुरूंचा सन्मान केला पाहिजे.

Guru Purnima : Whatsapp Status Video Free Download

आपको यहाँ दिए गए सभी गुरु पूर्णिमा पर निबंध जरुर पसंद आये होंगे. आपके दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply